The Blissful days

There are times, when I feel overwhelmed,

When the days are fluttering hastily,

The Time is fleeting frantically!

That time, I like to relax,

Instead of whining,

By Drinking an occasional

Sip of Wine!

Wine, in itself is a wonderful world,

It has an exotic essence of wholesome fruits,

Wine- the magical potion of the vineyard and the winery,

It has the finery of the winery ,

The sparkling wine adds shimmer to the moments,

The red wine appears divine,

The white wine looks mystical!

The wine glass is full of class!

The wine glass is transparent and elegant,

It looks prettier , when some flowing liquid , called ‘ Wine’ is poured and stored!

Stored for a short while!

To be relished gradually,

Sip by sip !

Enjoying the blissful days!

  • Rupali

The Blissful days

अगर कविताएं नहीं होती तो…

अगर कविताएं नहीं होती तो

क्या होता?

अगर कविताएं नहीं होती

तो ज़िंदगी ,

थोड़ी कम रूमानी होती,

अगर कविताएं न होती

तो ज़िंदगी में

आशिकी थोड़ी

रूखी- सूकी होती!

अगर कविताएं न होती तो

ज़िंदगी थोड़ी  कम रंगीन होती,

अगर कविताएं न होती तो,

बच्चों के लिए बाल गीत नहीं होते,

अंग्रेज में जिन्हें हम नर्सरी रहाइम्स कहते हैं,

वह ना होते!

अगर कविताएं नहीं होती तो

शायरी नहीं होती।

महफिलें नहीं होती,

‘ बहुत खूब ‘ ,’ वाह ! वाह! ‘ की गूंज नहीं होते!

अगर कविताएं नहीं होती तो

फिल्मी गीत नहीं होते,

तो हम फिल्मी गीत कैसे गुनगुनाते, सुनते और गाते?

अगर कविताएं नहीं होती तो,

आप जैसे आप हैं, वैसे नहीं होते!

मैं जैसे मैं हूं,

वैसे नहीं होती!

अगर कविताएं नहीं होती तो

साहित्य भी अधूरा होता,

कविताएं जिंदगी और साहित्य का महत्वपूर्ण भाग हैं।

कविताएं साहित्य का एक कोमल भाग हैं।

कविताएं संवेदनाएं जगाती हैं,

कविताएं प्रेरणा भी जगाती हैं,

जब हम ज़िंदगी में निराश होते हैं, हताश होते हैं,

जब हम किसी दुख में डूबे हुए होते हैं,

तब कविताएं हमें संवारती हैं, सहारा देती हैं!

कविताएं रेशमी लड़ियां हैं,

कविताएं कभी कभी सक्त हथकड़ियां भी हैं!

कविताओ से मुझे हैं प्यार,

कविताओ से हैं दुलार!

-रूपाली

-Rupali Gore Lale

 

 

अगर कविताएं नहीं होती तो…

The Glamorous Weekend!

Today, it is Saturday,

‘The Glamorous day’

Of the seven days!

There is no rush or hurry,

There is rest and no worry!

The routine is haphazard,

Oh! I wish to be a Wizard,

Who can stop the time,

For sometime,

On Saturday!

And thereby making the

Weekend days , a bit

Longer and longer…

Otherwise,the Lazy weekend Afternoons,

Seem to be over so soon!

The piles of laundry,

The tasks , so many

And sundry!

Will be done later!

The time with family and friends,

The lengthy errands!

The mends and amends,

Also can be handled ,

During the weekends!

The elaborate cuisine,

The tidied home,

pure and pristine!

Also are done during the weekends!

There is work in an organized way ,

On Weekdays!

The Weekends teach us to be

Relaxed, at ease ,

Listen to ourselves

And to be

In peace with ourselves!

– Rupali Gore Lale.

 

 

 

 

 

 

The Glamorous Weekend!